पॉलिटिक्स MoS Textiles (I/C), Parliamentary Affairs, Water Resources, River Development and Ganga Rejuvenation Santosh Kumar Gangwar during a press conference in New Delhi, on Sept. 29, 2014. Also seen Textiles Secretary S.K. Panda and Director General (M&C), Press Information Bureau, A.P. Frank Noronha. (Photo: IANS/PIB)
सरकार रोजगार देने में असफल रहती है तो देश और भावी पीढ़ी उन्हें माफ नहीं करेगी: श्रममंत्री – if employment is not generated future generation will not spare us

नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी सरकार में श्रममंत्री संतोष गंगवार ने एक कार्यक्रम में माना कि यदि सरकार रोजगार सृजन के कदम उठाने में असफल रहती है तो देश और भावी पीढ़ी उन्हें माफ नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि भारत में युवाओं की आबादी दुनिया में सबसे ज्यादा है और प्रत्येक युवा को रोजगार चाहिए. कार्यक्रम में गंगवार ने कहा, ‘यदि रोजगार सृजन की दिशा में तुरंत आवश्यक कदम नहीं उठाए गए तो आने वाली पीढियां हमें माफ नहीं करेंगी.’

रोजगार सृजन रणनीति पर आयोजित सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि उनका मंत्रालय खुद सीधे तौर पर रोजगार सृजन नहीं करता है, बल्कि नियोक्ताओं और कर्मचारियों के लिए उपयुक्त माहौल बनाता है. केन्द्रीय श्रम मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक गंगवार ने कहा कि कौशल विकास और रोजगार सृजन के मामले में सरकार सही दिशा में आगे बढ़ रही है.

गंगवार ने अपने संबोधन में नोटबंदी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से पिछले एक साल के दौरान कई बेहतर परिणाम सामने आए हैं.

सम्मेलन में श्रम सचिव एम सत्यवती ने कहा कि हर साल एक करोड़ युवा रोजगार चाहने वालों की दौड में शामिल हो जाते हैं. उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्य की बात है कि आज बाजार में नौकरी पाने के लिए कई युवाओं के पास जरूरी कौशल नहीं होता है. सरकार इस कमी को पूरा करने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है.’
उन्होंने कहा, ‘हाल में करीब 1.17 करोड़ युवाओं को विभिन्न प्रकार के कौशल में प्रशिक्षित किया गया और इन युवाओं को उद्योगों और संस्थानों में रोजगार दिलाने के लिए 920 रोजगार मेलों का आयोजन किया गया.’

Related Post

Subscribe to Blog via Email

Web Maintenance, Update by