खेल syed kirmani defends indian wicket keeper batsman ms dhoni
टीम को एक अनुभवी व्यक्ति की जरुरत है और वह धोनी हैं: किरमानी – syed kirmani defends indian wicket keeper batsman ms dhoni

नई दिल्ली : इन दिनों टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और टी-20 को लेकर काफी बवाल मचा हुआ है. पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण और अजित अगरकर के धोनी को टी-20 से संन्यास लेने की सलाह देने के बाद काफी हंगामा मच चुक है. राजकोट में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी-20 मैच में धोनी की धीमी पारी के बाद से उनकी जमकर आलोचना हो रही है. उस पर लक्ष्मण और अगरकर के बयान ने घी में आग का काम कर दिया. इसके बाद क्रिकेट जगत दो गुटों में बंटता नजर आया. जहां, लक्ष्मण, अगरकर के बाद सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट टीम को धोनी का विकल्प ढूंढने के लिए कहा तो वहीं सुनील गावस्कर, वीरेंद्र सहवाग और खुद कप्तान विराट कोहली माही के साथ खड़े नजर आए.

धोनी के समर्थकों में अब एक और नाम जुड़ गया है. पूर्व भारतीय विकेटकीपर सैयद किरमानी ने धोनी की आलोचना करने वालों को करारा जवाब दिया है. सैयद किरमानी ने अजित अगरकर को जवाब देते हुए धोनी की जमकर तारीफ की है. किरमानी ने धोनी का बचाव करते हुए कहा है कि, ”भारतीय टीम को इस वक्त धोनी के अनुभव की जरुरत है.”

इसी के सात विश्वकप विजेता टीम का हिस्सा रहे किरमानी ने धोनी की आलोचना करने वालों को जमकर खरी-खोची सुनाई और कहा कि, ”धोनी ने देश के लिए कई खेल जीते हैं और वह यह अच्छी तरह से जानते हैं कि अब और कैसे खेलना है.” किरमानी ने कहा, ”एक या दो मैच हार जाने से यह कतई नहीं मानना चाहिए कि धोनी अब खेल नहीं पाएंगे.”

किरमानी ने कहा “मुझे समझ नहीं आता आखिर यह सब क्यों हो रहा है. धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने तीनों फॉर्मेट पर अच्छा खेलकर दिखाया है. धोनी युवाओं के लिए एक प्ररेणा हैं और भारतीय क्रिकेट को उन्होंने अपनी सेवा दी है”.

एक अखबार को इंटरव्यू देते हुए किरमानी ने कहा, ”टीम को एक अनुभवी व्यक्ति की जरुरत है और वह धोनी हैं. अगरकर को लताड़ते हुए किरमानी ने कहा कि, ”अगरकर जैसे लोग धोनी जैसे खिलाड़ियों को टीम से निकलवाना चाहते हैं.”

उन्होंने कहा कि, “आखिर धोनी के सामने अगरकर की हैसियत ही क्या है, जो वह उनके लिए इस तरह की बात कह रहे हैं?” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, ”टीम इंडिया में जो अभी खिलाड़ी हैं और जो खेल चुके हैं, उनमें से कोई नहीं चाहता कि धोनी जैसे अनुभवी खिलाड़ी को टीम से हटाया जाए.”

गौरतलब है कि इससे पहले भी किरमानी, धोनी का बचाव कर चुके हैं. जब 2014 में धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने लगातार चौथी टेस्ट सीरीज गंवाई थी तब भी धोनी की आलोचना होने लगी थी. उस वक्त भी किरमानी ने धोनी का साथ दिया था और कहा था कि, ”यह कोई मायने नहीं रखता कि चार हार हो या पांच. प्रत्येक टीम इस दौर से गुजरती है. प्रत्येक व्यक्ति बुरी फॉर्म से गुजरता है. हमारी पूरी टीम बुरी फॉर्म से गुजर रही है. आप धोनी से उम्मीद नहीं कर सकते कि वह हमेशा सभी सीरीज जीते और सभी प्रारुपों में जीत दर्ज करे. यह गेंद और बल्ले के बीच की जंग है.”

किरमानी ने कहा था कि, ”यह प्रत्येक क्रिकेटर के साथ होता है और प्रत्येक टीम के साथ भी. आपको हार स्वीकार करनी होती है. आपको धैर्यवान होना होता है और आप ऐसे व्यक्ति की आलोचना नहीं कर सकते, जिसने देश के लिए शानदार काम किया हो. वह खेल में कुछ आमूलचूल बदलाव लाया है और वह आगे बढ़कर अगुआई करता है.”

Related Post

Subscribe to Blog via Email

Web Maintenance, Update by