खेल pv sindhu raises a stink over rude behaviour in flight
हॉन्ग कॉन्ग ओपन: फाइनल में हारीं सिंधु, जू इंग ने जीता खिताब

हॉन्ग कॉन्ग : दुनिया की नंबर एक महिला शटलर चीनी ताइपे की ताई जू इंग ने एक बार फिर भारतीय खिलाड़ी पी.वी. सिंधु को मात देकर हॉन्ग कॉन्ग ओपन बैडमिंटन टूर्नमेंट का खिताब अपने नाम कर लिया। रविवार को खेले गए महिला एकल के फाइनल मुकाबले में इंग ने 21-18, 21-18 से जीत दर्ज की। इंग ने पिछले साल सिंधु को ही हराकर इस टूर्नमेंट में खिताबी जीत हासिल की थी।
चीनी ताइपे की खिलाड़ी इंग ने फाइनल मैच में कमाल का प्रदर्शन किया और लगातार गेम में जीत दर्ज की। ने फाइनल मैच में कमाल का

तीसरी विश्व वरीयता प्राप्त सिंधु दोनों गेम में कड़ा संघर्ष करती नजर आईं। इंग ने लगातार दूसरी बार हॉन्ग कॉन्ग ओपन का खिताब अपने नाम किया है। इसके साथ ही उन्होंने इस टूर्नमेंट में अपनी खिताबी हैट्रिक पूरी की है। साल 2014 में इंग ने पहली बार खिताब जीता था। सिंधु ने हालांकि, फाइनल मैच में इंग को अच्छी टक्कर दी थी। पहले गेम में एक समय पर भारतीय खिलाड़ी ने 18-18 से बराबरी कर ली थी, लेकिन इंग ने तीन अंक हासिल करते हुए 21-18 से पहला गेम जीत लिया।

दूसरा गेम बेहद रोमांचक रहा और दोनों खिलाड़ियों के बीच 1-1 अंक को लेकर कड़ी टक्कर देखने को मिली। इंग को सिंधु ने लगातार 3 अंक लेने के साथ ही 4-4 से स्कोर बराबर किया। अपने खेल में सुधार करते हुए सिंधु ने इंग के खिलाफ 10-8 की बढ़त ले ली थी, लेकिन अपने तीसरे हॉन्ग कॉन्ग ओपन खिताब को पाने के लिए आतुर इंग ने इस बढ़त को ज्यादा देर तक टिकने नहीं दिया और 11-11 से बराबरी कर ली।

इंग ने इसके बाद अपने खेल को तेज किया और सिंधु की हर गलती से फायदा उठाते हुए अंक बटोरने शुरू किए। सिंधु को वापसी का मौका न देते हुए चीनी ताइपे की खिलाड़ी ने दूसरे गेम में भी 21-18 से जीत हासिल कर हॉन्ग कॉन्ग ओपन का खिताब अपने नाम किया। इंग और सिंधु का सामना अब तक 10 बार हो चुका था और इंग ने 7-3 से बढ़त ले रखी थी। इस टूर्नमेंट को जीतने के साथ ही इंग ने सिंधु के खिलाफ अपना करियर रेकॉर्ड और बेहतर करते हुए अब 8-3 की बढ़त बना ली है।

Related Post

Subscribe to Blog via Email

Web Maintenance, Update by